गर्मी की छुट्टियों का बेहतरीन इस्तेमाल कैसे करें

गर्मी की छुट्टियों का बेहतरीन इस्तेमाल कैसे करें

summer vacations

गर्मी की छुट्टियों का बेहतरीन इस्तेमाल कैसे करें

गर्मी की छुट्टियाँ का मतलब बच्चों की मौज मस्ती का दौर.  बच्चे बहुत चाव से गर्मी की छुट्टियों का इंतज़ार करते हैं और स्कूल से ही उनको व्यतीत करने का तरीका खोजने लगते है.  परन्तु क्या केवल घूमना-फिरना ही छुट्टियों का सबसे बेहतरीन उपयोग करना है? इसका जवाब आपको इस लेख को पढ़ते-पढ़ते मिल जायेगा. अक्सर देखा गया है कि माँ-बाप बच्चों को Summer Camp ले जाते हैं जहाँ बच्चें नाटक, पेंट, डांस, म्यूजिक इत्यादि तो सीख जाते है परन्तु उनके चरित्र का पूर्ण निर्माण नहीं हो पता. आज कल के नए दौर मैं जहाँ हर बच्चे के हाथ मैं मोबाइल, लैपटॉप और अन्य प्रकार के गैजेट्स हैं, यह सुनिश्चित करना बेहद आवश्यक है की उनको  व्यावहारिक नैतिक शिक्षा भी प्रदान करी जाये. इसके लिए ज़रूरी है की बच्चों को:

  1.  वृधाश्रम ले जाया जाये जिससे बच्चों मैं अपने बड़ों के प्रति सम्मान एवं सेवा की भावना बढे. यहाँ बिताया गया समय न केवल बच्चों को गुणवान बनाएगा अपितु बच्चों की सोच का दायरा भी बढाएगा.
  2.  अनाथालय ले जाया जाये जहाँ वे बेसहारा बच्चों की सेवा करें और जिससे उन्हें भी जीवन की खुशियों का एहसास हो और वो भी आगे बढ़ सकें. इस तरह की सेवाएँ करके बच्चे एक स्वस्थ्य समाज का निर्माण करने में एक एहम भूमिका निभा सकते हैं.

इसके अलावा:

  • हर बच्चे मैं एक ख़ास टैलेंट होता है जिसे वो शर्म या किसी रोक-टोक के कारण कभी भी प्रकट नहीं कर पाटा. यह चित्रकारी, एक्टिंग से लेकर लेख लिखने , अपनी पसंद्विदा किताबें पढने तक हो सकता है. हर बच्चे को अपनी मन की आवाज़ को सुनना चाहिए और अपने इस रूचि के शेत्र में समय बिताना चाहिए.
  • अपने ज्ञान की वृद्धि करने के लिए उनको नई-नई जगहों पर जाना चाहिए जैसे एतिहासिक स्मारक, म्यूजियम, प्रद्रशिनी इत्यादी.
  • बच्चों को नई-नई कला सीखनी चाहिए जैसे खाना बनाना, मैडिटेशन करना, योगा करना इत्यादी.

नैतिक शिक्षा, ज्ञान, एवं मनोरंजन का एक सही संतुलन बच्चों के जीवन में बेहद ज़रूरी है. यह बच्चों के कोमल विचारों को हमेशा सही दिशा में रखेगा और उनको कभी भी अपने महान लक्ष्यों से भटकने नहीं देगा. विजय एजुकेशन अकैडमी यह आशा करती है की बच्चों का जीवन मंगलमय हो और वें जीवन की हर उपलब्धि को पा सकें.